‘हमको कोरोना से डर नहीं लगता’ … पाकिस्तानी खिलाड़ियों की इस नई हरकत से नियंत्रण में उनका बोर्ड

0

पाकिस्तानी क्रिकेटर हों या उनका क्रिकेट बोर्ड, सभी भारतीय क्रिकेट और आईपीएल से जलते हैं। लेकिन उन्हें शायद ये समझ नहीं आता कि व्यवस्था और समझ का नाम भी कोई बात नहीं है। आईपीएल तो यूएई में हो रहा है तब भी सभी खिलाड़ियों ने कोरोना नियमों का पालन किया, कुछ अस्थिरता भी हुई लेकिन ठीक भी हो।]जबकि किसी भी खिलाड़ी ने ‘बायो-बबल’ (जैव सुरक्षित वातावरण) से बाहर निकलते हुए इसका उल्लंघन नहीं किया। वहीं, पाकिस्तान में कहानी ही अलग है।

एक पक्ष जहां पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) की सभी टीमें पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के खिलाफ केवल अदालत पहुंच गई। वहीं दूसरी ओर अब राष्ट्रीय टी 20 कप (नेशनल टी 20 कप) में भी उनके बोर्ड के लिए नए सिरदर्द शुरू हो चुके हैं। पाकिस्तान में जारी राष्ट्रीय टी 20 कप में एक या दो नहीं बल्कि कई खिलाड़ियों और अधिकारियों ने जैव सुरक्षित माहौल का उल्लंघन किया है।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने शुक्रवार को कहा कि 9 खिलाड़ियों और 3 अधिकारियों ने रावलपिंडी में राष्ट्रीय टी 20 कप के दौरान ‘बायो-बबल’ का उल्लघंन किया। हैरानी की बात ये है कि इन क्रिकेटरों में राष्ट्रीय टीम के कुछ खिलाड़ी भी शामिल हैं। लेकिन फिर से पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने कोई एक्शन नहीं लिया और होटल में को विभाजित -19 प्रोटोकॉल के उल्लघंन से नाराज होकर बस इतना कहा कि भविष्य में अगर कोई खिलाड़ी या अधिकारी ‘बायो-बबल’ का उल्लंघन करता है तो उसे टूर्नामेंट से तुरंत बाहर कर दिया। दिया जाएगा।

मोहम्मद हफीज

ये दिग्गज खिलाड़ी भी शामिल

इस हरकत को करने वालों में कई दिग्गज खिलाड़ी भी शामिल हैं। पीसीबी ने खिलाड़ियों के नाम नहीं बताए लेकिन मीडिया खबरों के मुताबिक फखर जमां, इमाम उल हक, खुर्रम मंजूर, मोहम्मद हफीज, राशिद खान, बासित अली, कामरान अकमल, सोहेल खान, अब्दुल रज्जाक, अनवर अली, यासिर शाह और उस्मान शिनवारी वो दिग्गज खिलाड़ी हैं जो नियमों को ताक पर रखने का काम किया है और सबके जीवन को खतरे में डाला है।

ये अस्वीकार्य है- नदीम खान

पीसीबी के ‘हाई परफोरमेंस सेंटर’ के निर्देशक नदीम खान ने इस पूरी तरह से अस्वीकार्य बताया। उन्होंने कहा, ‘पीसीबी परेशान और निराश है कि कुछ सीनियर खिलाड़ी और अधिकारियों ने राष्ट्रीय टी 0 कप के दौरान जैविक रूप से सुरक्षित बबल का उल्लघंन किया। इससे उन्होंने टूर्नामेंट की साख और अपने सहयोगियों के स्वास्थ्य को खतरे में डाल दिया। ‘

अकमल और हाफ़िज़

अभी-अभी लगा था झटका..लेकिन माने नहीं

गौरतलब है कि ज्यादा पुरानी बात नहीं है जब पाकिस्तान क्रिकेट को करारा झटका लगा था। इंग्लैंड दौरे से ठीक पहले पाकिस्तान के खिलाड़ियों के विभाजित विभाजन हुए थे और उसमें दर्जन भर नाम ऐसे निकले जिनके टेस्ट के नतीजे पॉजिटिव आए थे। किसी भी तरह के खिलाड़ियों को फिट करके इंग्लैंड भेजा गया। वहाँ उन्होंने बायो-बबल का पालन भी किया और उसके अंदर रहना भी सीखा लेकिन जैसे ही घर लौटे, उनकी हरकतें शुरू हो गईं। जैसा देश, वैसा खिलाड़ी।

Leave a Reply