Connect with us

Sports

Shoaib Akhtar ने बयां की दर्द, कहा- Jasprit Bumrah ने उस कला में महारथ हासिल कर ली है जो कभी हम पाकिस्तानियों के पास थी

Published

on

Shoaib Akhtar ने बयां की दर्द, कहा- Jasprit Bumrah ने उस कला में महारथ हासिल कर ली है जो कभी हम पाकिस्तानियों के पास थी

शोएब अख्तर (Photo Credits: IANS)

नयी दिल्ली, एक जनवरी: पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने जसप्रीत बुमराह को मौजूदा क्रिकेट का ‘ चतुर तेज गेंदबाज’ करार देते हुए कहा कि उन्होंने विरोधी बल्लेबाजों को उसी तरह छकाने की कला सीख ली है जिस तरह से कभी उनके देश के गेंदबाज किया करते थे. इस खेल को खेलने वाले सबसे तेज गेंदबाजों में से एक अख्तर बुमराह के कौशल से प्रभावित है.

अख्तर ने यू-ट्यूब चैनल ‘स्पोर्ट्स टुडे’ से कहा, ‘‘ वह शायद भारत के पहले गेंदबाज है जो पिच पर घास देखने से पहले यह पता करते हैं कि हवा किस और किस गति से बह रही है. यह कला पहले पाकिस्तान के गेंदबाजों के पास थी. हम जानते थे कि हम हवा का कैसे इस्तेमाल कर सकते है.’’

उन्होंने अपना, वसीम अकरम और वकार युनुस का उदाहरण देते हुए समझाया कि कैसे वे गेंदबाजी के समय हवा का इस्तेमाल करते थे.

यह भी पढ़ें- NZ vs PAK: शोएब अख्तर ने न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड को लगाई जमकर लताड़, कहा- पाकिस्तान कोई क्लब टीम नहीं, नेशनल टीम है

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं, वसीम भाई और वकार भाई हवा की गति और दिशा देखकर तय करते थे कि किस छोर से गेंदबाजी करने पर हमें रिवर्स स्विंग मिलेगी.’’ अख्तर ने कहा, ‘‘हम तेज गेंदबाजी के ‘मैकेनिक और एयरो डायनामिक्स’ को जानते थे, हमें पता होता था कि दिन के किस समय कितनी स्विंग मिलेगी. मैं मानता हूं कि बुमराह इस तरह की चीजों को जानते हैं.’’

अख्तर ने कहा कि मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमिर के बाद चतुराई के मामले में बुमराह ‘ सबसे काबिल गेंदबाज’ है. बुमराह महज पांच सेकेंड के अंदर बल्लेबाजों को डरा देते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘विकेट लेने की क्षमता के कारण बुमराह सिर्फ पांच सेकेंड (रनअप) में बल्लेबाजों को डरा देते हैं.’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *