Connect with us

Sports

Mithali Raj ने रचा इतिहास, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 10 हजार रन बनाने वाली बनी पहली भारतीय महिला

Published

on

Mithali Raj ने रचा इतिहास, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 10 हजार रन बनाने वाली बनी पहली भारतीय महिला

भारतीय वनडे क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज (Photo Credit: Twitter/ICC)

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की वनडे कप्तान मिताली राज (Mithali Raj) ने एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है. मिताली ने महिला अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट (Women’s International Cricket) में 10,000 रन पूरे करने वाली भारत की पहली और दुनिया की दूसरी महिला क्रिकेटर बन गई हैं.

38 वर्षीय, मिताली राज ने लखनऊ के अटल बिहारी बाजपेयी एकाना स्टेडियम में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चल रहे तीसरे वनडे के दौरान यह रिकॉर्ड बनाया है. मिताली को 10,000 रन पूरे करने के लिए 85 रनों की जरूरत थी. पदक्षिण अफ्रीका के साथ खेले गए पहले वनडे में उन्होंने 50 रनों की पारी खेली थी. दूसरे वनडे में मिताली को बल्लेबाजी करने का मौका ही नहीं मिला था. तीसरे मैच में उन्होंने यह उपलब्धि हासिल कर ली है. मिताली राज भारत की पहली ऐसी महिला खिलाड़ी है जिन्होंने टी 20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में भी 2 हजार या इससे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड हैं.

इससे पहले मिताली राज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक और उपलब्धि हासिल कर ली है. मिताली ने इंग्लैंड की चार्लोट एडवर्ड्स को पीछे छोड़ते हुए महिला क्रिकेट इतिहास में सबसे ज्यादा कैप्ड महिला इंटरनेशनल क्रिकेटर बनने का गौरव हासिल किया है. मिताली ने 1999 में आयरलैंड के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था.

चार्लोट एडवर्ड्स के नाम 309 मैच हैं. मिताली ने 10 टेस्ट, 211 वनडे और 82 टी 20 खेले हैं. मिताली के नाम दुनिया में सबसे ज्यादा 210 वनडे खेलने का रिकॉर्ड भी है. मिताली 200 से अधिक वनडे खेलने वाली इकलौती महिला क्रिकेटर हैं. मिताली के अलावा झूलन गोस्वामी (183), अंजुम चोपड़ा (127), अमिता शर्मा (116) और हरमनप्रीत (100) मैच खेले हैं.

मिताली ने अब तक खेले 311 मैचों में 8 शतकों और 75 अर्धशतकों के साथ 10,001 रन बनाए हैं. राज एकमात्र खिलाड़ी (पुरुष या महिला) हैं जिन्होंने एक से अधिक आईसीसी ओडीआई विश्व कप फाइनल में भारत का नेतृत्व किया है, जो 2005 और 2017 में दो बार ऐसा था. साल 2003 की क्रिकेट उपलब्धियों के लिए 22 वर्षीय मिताली राज को 21 सितम्बर, 2004 को ‘अर्जुन पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया हैं.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *