Connect with us

Lifestyle

आग से भी तेज गति से फैल रही है युवाओ में ये बीमारी, जाने इससे बचने के उपाय – News India Live, India News, Live News India

Published

on

आग से भी तेज गति से फैल रही है युवाओ में ये बीमारी, जाने इससे बचने के उपाय – News India Live, India News, Live News India

सफेद बाल की बीमारी – हम सभी जानते हैं की उम्र के साथ-साथ हमारे शरीर के अंग भी बूढ़े होने लगते हैं और इसका सीधा असर हमारे बाहरी शरीर पर दिखता है.

जैसे की चेहरे की झुरीया हड्डियों का कमजोर होना घुठनो में दर्द उठना और बालों का सफेद होना.

इन सब में हमारे बुढ़ापे को जो सबसे ज्यादा झलकाता है वो या तो झूरीया होती है या सफेद बाल. एक समय था जब ये चीजें सिर्फ ज्यादा उम्र के लोगों में ही देखने को मिलती थी लेकिन आज कल ये बीमारी के रूप में युवाओं में भी देखने को मिल रही हैं. अग्र आपके भी बाल कम उम्र में सफेद होने लगे हैं तो ये एक चिन्ता का विषय है.

आज कल सभी की पर्सनेलेटी के लिए सबसे खास बात होती है उनका हेयरस्टाईल लेकिन जब हेयर ही नहीं बचेंगे तो स्टाइल कहा से रखोगे?

Advertisement

इसलिए आपको भी अपने बालों का अभी से ख्याल रखना शुरू कर देना चाहिए.

 सफेद बाल की बीमारी –

आखिर क्या कारण है कम उम्र में सफेद बाल आने का

आज कल सभी अपनी जिंदगी में इतने ज्यादा व्यस्थ हो जाते हैं की वह अपनी का खयाल भी नहीं रख पाते हैं. बता दे की बालों का कम ध्यान रखने के कारण उनकी जड़ों में पाए जाने वाली सेबेक्वसग्रंथिया में सेबुम नाम का तैलीय तत्व मौजूद होता है जो की हमारे बालों ला रंग निर्धारित करता है. यही तत्व हमारे बालों को पोषण प्रदान करता है और इसी की कमी के कारण हमारे बाल जल्दी सफेद होने शुरू होते हैं. आमतौर पर पुरुषों के बाल 35 से 40 वर्ष की उम्र में सफेद होने शुरू होते हैं और 50 वर्ष की आयु तक ज्यादातर बाल सफेद हो जाते हैं.

 आग से भी तेज गति से फैल रही है युवाओ में ये बीमारी, जाने इससे बचने के उपाय – News India Live, India News, Live News India

सफेद बाल होने के मुख्य कारण

Advertisement

माना जाता है की अधिक समय तक जुखाम होने पर भी बाल सफेद होने का खतरा रहता है तो इसलिए जुखाम का जल्द से जल्द इलाज करा लेना बहुत जरूरी है.

बाल सफेद होने के पीछे अन्य बीमारियाँ भी कारण बन सकती हैं जैसे कि – कुपोषण, खून की कमी य उसे जुड़े अन्य रोग, विटामिन 12 की कमी और अधिक चिन्ता करना.

अगर आप भी फेशनेबलहेयरस्टाईल रखने के लिए कई तरह के केमिकल प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं तो आपको बता दे की इनसे आपके बालों को बहुत बुरा असर पड़ता है. खास तौर से हेयरट्रीटमेंट पर.

शैंपू, डाइ या रंग और तेल का अधिक प्रयोग आपके बालों को सफेद कर सकता है. इन सभी के विपरीत आपको आयूर्वेदिक शैंपू, बिना केमिकल वाली डाई या रंग और बिना महक वाले तेल का उपयोग करना चाहिए.

सफेद बाल

बालों सफेद होने से बचाने के लिए क्या है उपाय

Advertisement

बालों को सफेद होने से बचाने के लिए संतुलित भोजन, बालों की उचित सफाई रखनी चाहिए.

कई लोगों को ये बात झूठ या मजाक लगती है लेकिन ये सच्च है की अगर आप एक या दो बाल होने पर उन्हें तोड़ देंगे तो अधिक सफेद बाल आने शुरू हो जाएंगे.

मानसिक तनाव से बच कर रहे और किसी बात की चिंता न करें, आहार में दूध, पनीर, पालक, चौलाई, नींबू, आंवला, सेब, संतरा, मौसमी, हरी सब्जी, ताजे फल, अंकुरित खाद्यान्न, भोजन में कढ़ी पत्ते का इस्तेमाल आदि शामिल करें।

मानसिक तनाव से बचे और चिन्ताओ को कम करें.

सफेद बाल

इस तरह से फ़ैल रही है सफेद बाल की बीमारी –  आहार में दूध पनीर पालक चौलाई नींबू आंवला सेब संतरा मौसमी हरी सब्जी ताजे फल अंकुरित खाद्यान्न को शामिल करें और भोजन में कढ़ी पत्ते आदि का इस्तेमाल करें.

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *