Connect with us

Lifestyle

ये लक्षण बता देते हैं कि ये Heart Attack है या सामान्य सीने का दर्द

Published

on

ये लक्षण बता देते हैं कि ये Heart Attack है या सामान्य सीने का दर्द

बदलती लाइफस्टाइल (Lifestyle) और गलत खान-पान की वजह से लोगों को ब्लड प्रेशर (Blood Pressure), हाई कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol), मोटापा (Obesity) और तनाव जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसके साथ ही दिल की बीमारियों से जुड़ा खतरा भी बढ़ गया है। अगर आप समय से हार्ट अटैक (Heart Attack) के लक्षणों को पहचान लें तो आपकी जान बच सकती है। यहां आपको हार्ट अटैक के लक्षण और सामान्य दर्द के अंतर के बारे में बताया जा रहा है। जो आपके लिए मददगार साबित हो सकते है।

एक्सपर्ट्स बताते हैं कि इन दिनों दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ रहा है। कई बार लोग समान्य छाती में दर्द को हार्ट अटैक का लक्षण समझ लेते हैं और घबरा जाते हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं वो हार्ट अटैक के दर्द को सामान्य समझकर इग्नोर करते हैं। इसकी वजह से उनकी जान का खतरा हो जाता है। समय रहते अगर इन लोगों को अस्पताल न पहुंचाया जाए तो उनकी जान भी जा सकती है।

क्या है हार्ट अटैक और सामान्य दर्द में अंतर

1– सीना बहुत भारी होना

Advertisement

एक्सपर्ट्स का कहना है कि जब आपको हार्ट अटैक आता है, उस समय मरीज के सीने पर ऐसा मसहूस होता है कि मानों कोई भारी वस्तु रख दी है। सीना बहुत भारी हो जाता है और दर्द इतना होता है कि उसे सहन नहीं किया जा सकता है। जबकि जो सामान्य दर्द होता है वो बड़े एरिया को कवर नहीं करता है। उसमें मरीज की छाती भारी नहीं होती है।

2- ज्यादा पसीना आना

जब हार्ट अटैक आता है तो मरीज को बहुत ज्यादा पसीना आता है, भले ही ठंड क्यों न हो। जबकि सामान्य सीने के दर्द में पसीना नहीं आता है आपको केवल दर्द ही महसूस होता है।

3- सांस फूलने लगता है

हार्ट अटैक के दौरान मरीज की सांस फूलने लगती है, जबकि सामान्य दर्द में ऐसा नहीं होता है।

Advertisement

4- सीने से जबड़े मुंह और हाथ में फैल जाता है दर्द

जब हार्ट अटैक का दर्द होता है तो यह लेफ्ट साइड एरिया में फैलना शुरू होता है, सीने से शुरू हुआ दर्द आपके जबड़े, मुंह और हाथ तक पहुंच जाता है। जबकि सामान्य दर्द में ऐसा कोई लक्षण नहीं नजर आता है, केवल दर्द ही मससूस होता है।

5- हार्ट बीट का असान्य होना

हार्ट अटैक के दौरान मरीज की हार्ट बीट अनियंत्रित हो जाती है। वहीं सामान्य दर्द में ऐसा नहीं होता है।

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *