Connect with us

Lifestyle

गर्भावस्था में इस दौरान होती है अधिक थकान, जानिए बचने के उपाय

Published

on

गर्भावस्था के समय महिलाओं के शरीर में कई अलग-अलग तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। इसके कारण उसे कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इनमें एक परेशानी थकान होना है। मगर कई महिलाओं को जरूरत से अधिक थकान, कमजोरी महसूस होती है। इसके कारण इनके मन में अपनी सेहत को लेकर कई तरह से सवाल आते हैं। ऐसे में आज हम आपको इस आर्टिकल में प्रेगनेंसी दौरान महिलाओं को थकान होने के कारण व इससे बचने के कुछ खास टिप्स बताते हैं…

प्रेगनेंसी में अधिक थकान होना सामान्य

ऐसा जरूरी नहीं है कि अधिक काम करने से शरीर में थकान महसूस होती है। असल में, इस दौरान शारीरिक, मानसिक, हार्मोन में बदलाव होता है। ऐसे में कई महिलाओं को बिना कोई अधिक काम किए भी थकान होने लगती है।

गर्भावस्था में इस समय थकान महसूस होती है

Advertisement

एक्सपर्ट के अनुसार, गर्भधारण के पहली तिमाही यानि पहले तीन महीने में महिलाओं में थकान महसूस होने लगती है। इसलिए इस दौरान अगर आपको अधिक थकान होने लगे तो घबराएं ना। इससे बचने के लिए अपनी डेली डाइट में पौष्टिक व एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर चीजें शामिल करें। इससे आपकी एनर्जी तेजी से बूस्ट होगी।

इस दौरान महसूस होती है अधिक थकान

एक्सपर्ट के मुताबिक, अक्सर गर्भावस्था के पहली तिमाही में शुरु होने वाली थकान दूसरी तिमाही में कम या दूर हो जाती है। मगर तीसरी तिमाही में फिर से थकान महसूस होने लगते हैं। इस दौरान महिलाओं को रात के समय अधिक समस्या होती है। इस दौरान थकान होने का कारण गर्भ में भ्रूण की हलचल, बार-बार पेशाब आना आदि हो सकते हैं। ऐसे में हम कह सकते हैं कि महिलाओं को डिलीवरी के बाद ही थकान की समस्या से पूरी तरह आराम मिलता है।

गर्भावस्था में अधिक थकान होने के कारण

हार्मोनल बदलाव- गर्भावस्था के शुरुआत में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन का अधिक उत्पादन हो सकता है। यह प्राकृतिक रूप से गर्भावस्था को बनाए रखने और दुग्ध उत्पादन में मुख्य भूमिका निभाता है। ऐसे में इस प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन के बढ़ने से महिलाओं को थकान महसूस होने लगती है।

Advertisement

अनिद्रा की समस्या- गर्भावस्था में नींद की कमी होने से भी थकान का एहसास होता है। एक अध्ययन के अनुसार, 6 घंटे से कम नींद लेने वाली महिलाओं को थकान की समस्या हो सकती है।

पोषक तत्वों की कमी- इस दौरान महिलाओं को अपनी डाइट का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। असल में, इससे मां और बच्चे को पूरा पोषण मिलता है। मगर खाने में आयरन व अन्य पोषक तत्वों की कमी होने से महिलाओं को खून की कमी होने लगती है। इसके कारण थकान होने लगती है।

अधिक काम करना भी एक वजह- इस दौरान ज्यादा काम करने से भी थकान महसूस होती है। फिर चाहे तो कोई शारीरिक काम कर रहे हो या मानसिक।

वजन बढ़ने के कारण- गर्भावस्था दौरान महिलाओं का वजन काफी बढ़ जाता है। ऐसे में अधिक वजन भी सामान्य रूप से थकान का एहसास करवाता है।

मॉर्निंग सिकनेस- गर्भावस्था में मॉर्निंग सिकनेस की होने के कारण भी थकान हो सकता है।

Advertisement

बीपी- इस दौरान हाई बीपी होने पर भी थकान महसूस होती है।

शुगर- बीपी की तरह शरीर में शुगर लेवल बढ़ने या डायबिटीज होने के कारण भी थकान का एहसास होने लगता है।

भावनात्मक बदलाव के कारण- इस दौरान कुछ महिलाओं को तनाव होने लगता है। ऐसे में इसके कारण थकान होना आम बात है।

गर्भावस्था में थकान से ऐसे पाएं छुटकारा

. अच्छे से आराम करें।
. नींद पूरी लें।
. डॉक्टर से अपनी सेहत की देखभाल संबंधी सलाह लें।
. आप थकान की समस्या होने पर मूत्र मार्ग में संक्रमण, एनीमिया अन्य बीमारियों की जांच करवा सकते हैं। ऐसे में वे आपको इसे दूर करने के लिए कुछ दवाएं खाने को दे सकती है।
. दिनभर में खूब सारा पानी पीएं।
. खाने में पोषक तत्वों से भरपूर चीजें शामिल करें।

Advertisement

. जरूरत से अधिक मीठा ना खाएं। ताकि आपके शरीर में एनर्जी बनी रहे।
. डॉक्टर से पूछकर डेली रूटीन में हल्का-फुल्का योगा व एक्सरसाइज शामिल करें।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *