Connect with us

Lifestyle

शुगर पेशेंट जरूर खाएं ये जड़ी-बूटी, ब्लड शुगर होगा कंट्रोल, ये है सेवन का सही तरीका – News India Live, India News, Live News India

Published

on

Ashwagandha in diabetes: आज हम आपके लिए लेकर आए हैं अश्वगंधा के फायदे. अश्वगंधा के पौधों में मजबूत एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं. इसके औषधीय गुणों की वजह से ही सालों से कई आयुर्वेदिक दवाओं में इसका इस्तेमाल किया जाता रहा है. अश्वगंधा का सेवन डायबिटीज मरीजों के लिए बेहद लाभकारी है. इससे ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है.

 

देश के मश्हूर आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार, डायबिटीज के मरीजों को ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए खानपान समेत लाइफस्टाइल का बहुत ख्याल रखना पड़ता है. आयुर्वेद में डायबिटीज के मरीजों (Diabetes patient) के लिए कई तरह की औषधियां और जड़ी-बूटी बताई गई हैं, लेकिन इनमें सबसे ज्यादा फायदेमंद अश्वगंधा को माना गया है.

डायबिटीज के मरीजों पर अश्वगंधा का असर (Ashwagandha in diabetes)

Advertisement

आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार, अश्वगंधा में औषधीय गुण पाए जाते हैं और ये ब्लड ग्लुकोज स्तर को कम करने में भी फायदेमंद है. एक स्टडी में पाया गया कि अश्वगंधा इंसुलिन स्राव को बढ़ाता है और मांसपेशियों की कोशिकाओं में इंसुलिन संवेदनशीलता में भी सुधार करता है. अश्वगंधा की जड़ का पाउडर ब्लड ग्लुकोज स्तर को कम करता है.

 

डायबिटीज मरीज इस तरह करें इस्तेमाल (How to use ashwagandha)
आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी कहते हैं कि पाउडर के रूप में अश्वगंधा का सेवन ज्यादा फायदेमंद होता है. ये न्यूरोडीजेनेरेटिव डिसऑर्डर और कैंसर से बचाता है. टाइप 2 डायबिटीज के लिए अश्वगंधा की जड़ और पत्तियों के अर्क को एक प्रभावी इलाज के तौर पर देखा जाता है. पाउडर के रूप में अश्वगंधा का सेवन ब्लड ग्लुकोज को कम करता है और यूरिन कॉन्संट्रेशन भी बढ़ाता है. डॉक्टर की देखरेख में अश्वगंधा का सेवन करने से काफी हद तक डायबिटीज को कंट्रोल किया जा सकता है.

अश्वगंधा के फायदे (Ashwagandha benefits)
अश्वगंधा में मजबूत एंटीऑक्सीडेंट कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्स से बचाते हैं. इससे तनाव कम होता है. इम्यूनिटी बढ़ाने में भी अश्वगंधा काफी कारगर पाया गया है. अश्वगंधा को एंटी डायबिटिक, एंटी कैंसर, एंटी माइक्रोबियल, एंटी आर्थिरिटिक, न्यूरो न्यूरोप्रोटेक्टिव और कार्डियो प्रोटेक्टिव माना जाता है. हालांकि इसके सेवन से पहले डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है.

Advertisement