Connect with us

Lifestyle

गर्म चाय पीने के शौकीन हों, तो सावधान हो जाएं, यह एक घातक बीमारी हो सकती है

Published

on

गर्म चाय पीने के शौकीन हों, तो सावधान हो जाएं, यह एक घातक बीमारी हो सकती है

हमारे शरीर के अंदर के अंग बहुत ही नाजुक और संवेदनशील होते हैं। ऐसी स्थिति में, यदि उन्हें थोड़ा सा निपटाया जाता है या यदि आवश्यक चीजों को नजरअंदाज किया जाता है, तो गंभीर परिणाम हो सकते हैं। हाल ही में हुए एक शोध में पाया गया है कि जो लोग लगातार गर्म चाय पीते हैं, उनमें एसोफैगल कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। द अमेरिकन कैंसर सोसाइटी में किए गए इस शोध में कहा गया है कि जो लोग गर्म चाय, कॉफी या अन्य पेय पदार्थ पीने के शौकीन हैं उन्हें बहुत सचेत रहने की जरूरत है। आपको बता दें कि एसोफैगस कैंसर भारत का छठा सबसे गंभीर कैंसर है, जबकि विश्व स्तर पर यह कैंसर आठवें स्थान पर खतरनाक पाया गया है।

द अमेरिकन कैंसर सोसायटी के प्रमुख लेखक, फरहाद इस्लामी कहते हैं कि कुछ लोग गर्म चाय, कॉफी और अन्य पेय पदार्थों का आनंद लेते हैं। यह शौक एक स्तर के बाद अन्नप्रणाली को परेशान करना शुरू कर देता है, जिसके कारण अन्नप्रणाली कैंसर होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। किसी भी गर्म पेय को लगभग 4 मिनट तक ठंडा करने के बाद पीना चाहिए। अन्यथा, गले और पेट के बीच की ‘फूड पाइप’ बुरी तरह प्रभावित होती है। यह खतरा उन लोगों में अधिक है जो 75 डिग्री सेल्सियस पर लगातार पेय पीते हैं।

रोजाना 60 डिग्री सेल्सियस पर 700 मिलीलीटर चाय पीने से एसोफैगल कैंसर का 90 प्रतिशत खतरा होता है। शोधकर्ताओं का कहना है, क्योंकि मजबूत गर्म पानी (पेय पदार्थ) से मुंह और गले में जलन होती है, जो थोड़ी देर बाद कैंसर का रूप ले लेती है। शोधकर्ताओं ने यह भी दावा किया है कि यह कैंसर महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक होता है।

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *