दादी की दादी इन युक्तियों को स्वस्थ रखती हैं, विज्ञान भी उन्हें अपनी ताकत मानता है

0

जब भी कोई सामान्य बीमारी होती है, तो सबसे पहले घरेलू उपचार की कोशिश की जाती है, जिसे दादी-नानी के नुस्खे कहा जाता है। हालाँकि, आजकल लोग सामान्य बीमारियों के बावजूद दवाइयाँ लेने लगते हैं जो आपके शरीर को कई तरह से नुकसान पहुँचाती हैं। ऐसी स्थिति में, इन दादी-नानी उपायों को अपनाना आवश्यक है, जिससे शरीर को कोई नुकसान न हो और बीमारी भी जड़ से समाप्त हो जाए। विज्ञान भी इन युक्तियों की शक्ति को जानता और स्वीकार करता है।

सिरदर्द के लिए पुदीने की चाय

सिरदर्द में अक्सर लोग दर्द निवारक दवाओं की ओर भागते हैं, लेकिन इसके लिए केवल 1 कप पुदीने की चाय ही पर्याप्त है, जिसके कारण डॉक्टर भी पीने की सलाह देते हैं। इसके अलावा आप पुदीने के तेल से भी मालिश कर सकते हैं। इससे न केवल सिरदर्द खत्म होता है बल्कि नींद भी अच्छी आती है।

वजन घटाने के लिए शहद-नींबू की चाय

जब वजन घटाने की बात आती है, तो लोगों के दिमाग में डाइटिंग और जिम की देखभाल सबसे पहले आती है। आप इस समस्या को दादी माँ के नुस्खे से भी हल कर सकते हैं। जी हां, वजन घटाने में शहद और नींबू की चाय बहुत फायदेमंद है। इसके साथ ही यह लीवर और किडनी को डिटॉक्स करने में भी मदद करता है, जो आपको कई स्वास्थ्य समस्याओं से बचाता है। इससे पाचन भी स्वस्थ रहता है।

अनिद्रा से राहत के लिए कैमोमाइल चाय

प्राचीन समय में लोग अपनी स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए कैमोमाइल का इस्तेमाल करते थे। दूसरी ओर, डॉक्टरों की माने तो चाय का सेवन गैस, मांसपेशियों में खिंचाव, अनिद्रा, अनियमित मासिक धर्म, पीरियड के दर्द, किडनी और तिल्ली की समस्याओं से राहत दिला सकता है।

मैग्नीशियम अच्छी नींद देता है

जबकि मैग्नीशियम हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक है, यह शरीर को ठीक से काम करने के लिए ऊर्जा भी प्रदान करता है। यह इम्यून सिस्टम और ब्लड शुगर को भी नियंत्रण में रखता है। इतना ही नहीं, मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन सिरदर्द, अनिद्रा, नींद की बीमारी, अवसाद से राहत दिलाने में भी सहायक है।

दांत दर्द के लिए लौंग

दांत दर्द होने पर बुजुर्ग बुजुर्ग लौंग से कुल्ला करने की सलाह देते हैं। वहीं, वैज्ञानिकों के अनुसार, लौंग दांत के दर्द से राहत दिलाने में बहुत फायदेमंद है। यही नहीं, लौंग का इस्तेमाल कई टूथपेस्ट बनाने के लिए भी किया जाता है। इस मामले में, यदि आपके दांतों में दर्द है, तो इसका उपयोग करने के लिए स्वतंत्र महसूस करें।

अधिक बीमार होने पर स्पंज स्नान करें

अक्सर लोग हल्के बुखार में दवा लेते हैं लेकिन अगर आप ज्यादा बीमार हैं तो स्पंज बाथ आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए मरीज को चादर से ढक दें। अब भीगे हुए तौलिये या दस्ताने से पूरे शरीर को साफ करें। फिर उसकी कमर पर स्पंज करें। फिर रोगी के शरीर को पोंछकर सुखा लें। इससे बुखार गायब हो जाएगा।

चोट के लिए हल्दी

हल्दी एक महत्वपूर्ण औषधि है, जिसका उपयोग भारतीय रसोई में खाने में स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। वहीं, कुछ लोग घाव भरने पर हल्दी की पट्टी भी लगाते हैं, जो वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी सही है। एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर हल्दी घाव को भरने में मदद करती है। साथ ही इसका सेवन आपको कई स्वास्थ्य समस्याओं से बचाने में मदद करता है।

Leave a Reply